पंचायत का निर्णय

एक बार एक हंस और हंसिनी हरिद्वार के सुरम्य वातावरण से भटकते हुए उजड़े, वीरान और रेगिस्तान के इलाके में आ गये !

हंसिनी ने हंस को कहा कि ये किस उजड़े इलाके में आ गये हैं ? यहाँ न तो जल है, न जंगल और न ही ठंडी हवाएं हैं ! यहाँ तो हमारा जीना मुश्किल हो जायेगा ! भटकते २ शाम हो गयी तो हंस ने हंसिनी से कहा कि किसी तरह आज कि रात बिता लो, सुबह हम लोग हरिद्वार लौट चलेंगे !

रात हुई तो जिस पेड़ के नीचे हंस और हंसिनी रुके थे उस पर एक उल्लू बैठा था। वह जोर २ से चिल्लाने लगा।

हंसिनी ने हंस से कहा, अरे यहाँ तो रात में सो भी नहीं सकते। ये उल्लू चिल्ला रहा है। हंस ने फिर हंसिनी को समझाया कि किसी तरह रात काट लो, मुझे अब समझ में आ गया है कि ये इलाका वीरान क्यूँ है ? ऐसे उल्लू जिस इलाके में रहेंगे वो तो वीरान और उजड़ा रहेगा ही। पेड़ पर बैठा उल्लू दोनों कि बात सुन रहा था। सुबह हुई, उल्लू नीचे आया और उसने कहा कि हंस भाई मेरी वजह से आपको रात में तकलीफ हुई, मुझे
माफ़ कर दो। हंस ने कहा, कोई बात नही भैया, आपका धन्यवाद !

यह कहकर जैसे ही हंस अपनी हंसिनी को लेकर आगे बढ़ा, पीछे से उल्लू चिल्लाया, अरे हंस मेरी पत्नी को लेकर कहाँ जा रहे हो। हंस चौंका, उसने कहा, आपकी पत्नी? अरे भाई, यह हंसिनी है, मेरी पत्नी है, मेरे साथ आई थी, मेरे साथ जा रही है !

उल्लू ने कहा, खामोश रहो, ये मेरी पत्नी है। दोनों के बीच विवाद बढ़ गया। पूरे इलाके के लोग इक्कठा हो गये। कई गावों की जनता बैठी। पंचायत बुलाई गयी। पंच लोग भी आ गये ! बोले, भाई किस बात का विवाद है ? लोगों ने बताया कि उल्लू कह रहा है कि हंसिनी उसकी पत्नी है और हंस कह रहा है कि हंसिनी उसकी पत्नी है !

लम्बी बैठक और पंचायत के बाद पञ्च लोग किनारे हो गये और कहा कि भाई बात तो यह सही है कि हंसिनी हंस की ही पत्नी है, लेकिन ये हंस और हंसिनी तो अभी थोड़ी देर में इस गाँव से चले जायेंगे। हमारे बीच में तो उल्लू को ही रहना है। इसलिए फैसला उल्लू के ही हक़ में ही सुनाना है ! फिर पंचों ने अपना फैसला सुनाया और कहा कि सारे तथ्यों और सबूतों कि जांच करने के बाद यह पंचायत इस नतीजे पर पहुंची है कि
हंसिनी उल्लू की पत्नी है और हंस को तत्काल गाँव छोड़ने का हुक्म दिया जाता है !

यह सुनते ही हंस हैरान हो गया और रोने, चीखने और चिल्लाने लगा कि पंचायत ने गलत फैसला सुनाया। उल्लू ने मेरी पत्नी ले ली ! रोते- चीखते जब वहआगे बढ़ने लगा तो उल्लू ने आवाज लगाई – ऐ मित्र हंस, रुको ! हंस ने रोते हुए कहा कि भैया, अब क्या करोगे ? पत्नी तो तुमने ले ही ली, अब जान भी लोगे ?

उल्लू ने कहा, नहीं मित्र, ये हंसिनी आपकी पत्नी थी, है और रहेगी ! लेकिन कल रात जब मैं चिल्ला रहा था तो आपने अपनी पत्नी से कहा था कि यह इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए है क्योंकि यहाँ उल्लू रहता है ! मित्र, ये इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए नहीं है कि यहाँ उल्लू रहता है । यह इलाका उजड़ा और वीरान इसलिए है क्योंकि यहाँ पर ऐसे पञ्च रहते हैं जो उल्लुओं के हक़ में फैसला सुनाते हैं !

शायद ६५ साल कि आजादी के बाद भी हमारे देश की दुर्दशा का मूल कारण यही है कि हमने हमेशा अपना फैसला उल्लुओं के ही पक्ष में सुनाया है। इस देश क़ी बदहाली और दुर्दशा के लिए कहीं न कहीं हम भी जिम्मेदार हैं।

Performance Management – Flat vs Extreme

I am working in a team of equally capable Black belts. Job role is same and it is very difficult for my managers to defend our ratings. Working with multiple managers is another compulsion or business requirement.  In absence of clear cut goal setting and output, In year end, my manager feel lost to defend our ratings. Salary differential in group is another dimension.

In 2011, our manager got confused and rated us all as very good. Everyone was happy as it was a non-event for all. Attitude changed in system, if you work or not, hardly matters.

Last year, manager changed and perception changed. We all got extreme ratings this time. Some got on upper side and some got on lower side. Now I am facing extremely uncomfortable environment in department. Drive and motivation are on extreme. He got maximum rise, he has to work extra. Averages rated are more silent spectator. Lower graded are looking for other function or profile. Point here is extreme rating made psychological impact on us.

Same is happening with our Indian legal system, you do crime or good work. hardly matters. Rewards and recognition of good work is missing. Anna Hazare worked hard whole life and now Media is torturing him for good work. System must reward right performance. Then only, well balanced performances will come and company/society will sustain longer.

Invisible Children

I watched KONY 2012 video and collected some information about him. He suddenly came to news after a documentary “Invisisble Children” came in existence. Internet is curious to know about him. Joseph Kony, a former church altarboy, has spread terror through eastern and central Africa for almost three decades. His army has abducted and forced an estimated 66,000 children to fight for them.. Joseph Kony whose LRA dismembered, cut off lips, ears, fingers, hands, feet off of the innocent to keep them in fear.

His troops often come into villages and kill the adults then rape the girls and force the boys to fight in his army. Kony stopped attending church when he was 15 and practices of kind of Christianity mixed with African spirituality, believing the sign of the cross will physically protect him and his soldiers from harm.

Kony believes in polygamy, and as of 2007 he was thought to have 88 wives, along with 42 children.

Meantime, People in Africa are also telling it as wrong propaganda. Difficult to say what is right. Kony insists that he and the Lord’s Resistance Army are fighting for the Ten Commandments. Mixing god with weapon is little strange. Religious leaders work on extremes. Some of them pray for nonviolence while other wants rule of god on violence.

More on link below .. Youtube has video on Invisible Children

http://www.bbc.co.uk/news/world-africa-17299084